Clove.jpg

Table of Contents

लौंग का परिचय
Introduction of Cloves in Hindi

लौंग (Cloves Health Benefits) के बारे में हर किसी ने सुना होगा। लौंग ऐसा मसाला है जिसे अधिकतर लोगों ने खाया व देखा ही होगा। यह घर की रसोई के मसालों में आसानी से मिल जाता है। लौंग के औषधिय गुण (Health Benefits of Cloves) स्वास्थ्य के लिए जबरदस्त लाभकारी हैं। रसोई के मसाले से लेकर आयुर्वेद में औषधि तक लौंग का प्राचीन काल से उपयोग किया जा रहा है।

Clove (लौंग)

लौंग क्या है?
What is Clove in Hindi?

लौंग एक वानस्पतिक पेड़ है, जिसके पुष्प को सुखाकर लौंग का रूप दिया जाता है। जब लौंग का पेड़ 9 से 10 वर्ष पुराना हो जाता है तब इस लौंग के पेड़ में पुष्प आना प्रारंभ हो जाता है। इन पुष्पों को सुखाकर बाजार में लौंग के रूप बेचा जाता है। लौंग स्वाद में तीक्ष्ण, कसैला व तेज होता है। यह 1 से 2 से.मी. बड़ी होती है। इसके ऊपरी भाग में गोलाकार का बीज जैसा रहता है और इसका ऊपरी सिरा ताज या गुम्बद के जैसा प्रतीत होता है। यह देखने में भूरे रंग की होती है।

लौंग के अन्य भाषाओं में नाम
Name of Cloves in Other Languages in Hindi

लौंग के अन्य प्रमुख नामों में लवंग, लोंग, लौंग, क्लोव, Clove, Clove Tree, Zanzibar Red Head, लवींग, करनफूल, देवकुसुम, श्रीप्रसून आदि प्रमुख हैं।

लौंग का सेवन करने या लौंग खाने से क्या फायदा होता है?
What Health Benefits of Consume Cloves in Hindi?

लौंग में फाइबर की मात्रा भरपूर होती है। इसके एंटी बैक्टेरियल गुण होते हैं जो संक्रमण को रोकने में मदद करते हैं। लौंग का सेवन करने से अनेकों प्रकार के स्वास्थ्य लाभ होते है। यह कब्ज, गैस, उदर रोग, पाचन शक्ति बढ़ाने, क्षुदा वृद्धि, कफ – पित्त दोष, रक्त विकार दूर करने, श्वसन रोग,मधुमेह, टी. बी., दांत दर्द, हिचकी, पेट के कीड़े मारने, चेतना शक्ति जागृत करने, शरीर में होने वाले फोड़े फुंसी, मुख की दुर्गंध, मूत्र मार्ग को सुचारू रखने, ब्लड प्रेसर को नियंत्रित करने, कोलेस्ट्रॉल आदि में लाभदायक होता है।

लौंग खाने से क्या नुकसान होता है?
What Health Side effects of Clove if eat it?

लौंग का प्रयोग अधिक मात्रा में करना नुकसानदायक हो सकता है। अतः इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए।
इसका अधिक मात्रा में सेवन करना मानव शरीर में गर्मी पैदा कर सकता है, जो शरीर में जलन जैसी स्थिति उत्पन्न कर सकता है।

गर्भावस्था व शिशु को स्तनपान कराने वाली महिला को लौंग का सेवन नहीं करना चाहिए, यह शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

अधिक लौंग का सेवन मनुष्य की कामोत्तेजना को कम कर सकता है, इसलिए इसके सेवन से पूर्व सावधानी बरतनी चाहिए।
ब्लड शुगर का स्तर यदि सामान्य से कम है तो लौंग का सेवन नहीं करना चाहिए।

गर्म प्रकृति का होने के कारण अधिक सेवन करने से यह आंत व किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है।

यह खून को पतला करता है, इसलिए चोट लगने अधिक मात्रा में ब्लडिंग का खतरा हो सकता है।

लौंग की तासीर कैसी होती है?
How does clove taste?

यह गर्म तासीर का मसाला होता है।

मुख्य रूप से इसे शीत ऋतु में उपयोग किया जाता है।

शरीर में गर्मी उत्पन्न करने में यह बहुत ही कारगर औषधि है।

लौंग में कौन कौनसे विटामिन व खनिज पाए जाते है?
Mineral and Vitamins Found in Clove in Hindi?

लौंग का पुष्प खनिज एवं विटामिन से भरपूर होता है।

इसमें सोडियम, पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेड, मैग्नीशियम, आयरन, फाइबर, कैल्शियम व विटामिन ए की मात्रा मौजूद होती है।

लौंग के उपयोगी भाग
Useful Part of Clove Tree in Hindi

फूल
कली
पत्तियां
तेल के रूप में

लौंग का उपयोग कितनी मात्रा में करना चाहिए?
In Which much Quantity Consume the Clove in Hindi?

लवंग का चूर्ण (Clove Powder) – 1 ग्राम
लौंग का तेल (Clove Oil) – 1 बूंद
साबुत लौंग (Whole Clove) – 2-3 लौंग
खाने के तड़का में प्रयोग – 3-5 लौंग

लौंग कहां होती है?
Where is Growing Cloves in Hindi?

भारत में मुख्य रूप से इसका उत्पादन तमिलनाडु और केरला में किया जाता है। आयात के मामले में भारत को सर्वाधिक लौंग सिंगापुर से आयात होती है।

लौंग के औषधिय गुण –
Amazing Medicinal Health Benefits of Clove in Hindi

पेट संबंधी रोगों के उपचार में लौंग का प्रयोग
Health Benefits of Cloves in Stomach Diseases in Hindi

कभी कभी लगता है कि हम कुछ गलत खाना खा गए है, और इस वजह से पेट में समस्या हो गई है। अनियमित खानपान, बाहरी और गरिष्ठ मसालेदार खाने से पेट के रोग हो जाते हैं। जानते है पेट के रोगों का लौंग से आयुर्वेदिक इलाज –

अजवायन, सौंठ, लौंग और सेंधा नमक को बराबर मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें। एक ग्राम चूर्ण का खाना खाने के बाद सेवन करने से पाचन क्रिया ठीक होती है और एसिडिटी में लाभ मिलता है।
3-4 लौंग को बारीक कूटकर आधा गिलास पानी में मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से हैजा रोग और पाचन तंत्र में लाभ मिलता है।
सौंठ, काली मिर्च, लौंग, पीपल, अजवायन समान भाग को बारीक पीस कर मिला लें। इस मिश्रण के बराबर भाग सेंधा नमक और इतना ही मिश्री पाउडर डालकर चीनी या कांच के बर्तन में रख दें। इसके बाद इसे नींबू रस में डुबो दें। धूप में सुखाकर रोज एक चम्मच खाना खाने के बाद सेवन करने से बदहजमी, खट्टी डकार आदि ठीक हो जाती है।

और पढ़ें – पुदीना के औषधीय गुण

पेट में होने वाली गैस में लौंग के फायदे
Benefits of Clove in Stomach Gas in Hindi

लौंग का तेल या काढ़े के सेवन से पेट में होने वाली गैस से राहत मिलती है।
लौंग, सौंठ, अजवायन व सेंधा नमक के बराबर भाग में इन चारों के बराबर गुड डालकर बारीक पीस लें और गोली बनाकर सेवन करने से पेट गैस व अपच जैसी समस्या दूर हो जाती है।

दांत दर्द में लौंग के फायदे
Health Benefits of Cloves in Toothache in Hindi

एक लौंग को दर्द वाले दांत के नीचे दबाकर रखने से दांत दर्द में लाभ मिलता है।
लौंग की पत्तियों को पीसकर दर्द वाले स्थान पर लगाने से जल्द ही आराम मिलता है।
रूई के फोहे में लौंग का तेल लगाकर दांत के दर्द वाले स्थान पर लगाने से बहुत ही जल्दी लाभ मिलता है।
जैतून के तेल में लौंग का तेल मिलाकर दर्द वाले दांत पर लगाने से आराम मिलता है।

कर्ण शूल या कान के दर्द में लौंग के फायदे
Health Benefits of Clove in Ear Ache in Hindi

सरसों के तेल में 2-3 लौंग पकाकर कान में तेल डालने से दर्द में लाभ मिलता है, साथ ही कान में जमा मैल भी निकल जाता है।
तिल अथवा सरसों के तेल में बराबर मात्रा में लौंग का तेल मिलाकर गर्म कर लें। इस तेल को रूई के फोहे से कान में डालने से कान का दर्द समाप्त हो जाता है, साथ ही श्रवण शक्ति भी तेज होती है।

और पढ़ें – कढ़ी पत्ता या मीठे नीम के गुण

तनाव मुक्त होने के लिए लौंग का प्रयोग
Use of Cloves for Depression Free in Hindi

आजकल के समय में काम व अन्य टेंशन के कारण व्यक्ति तनाव महसूस करता है। लौंग तनाव को दूर करता है।
तनाव मुक्त रहने के लिए नहाने से पहले पानी में लौंग के तेल की 2-3 बूंदे डालनी चाहिए। इस पानी से नहाने से व्यक्ति तरोताजा महसूस करता है।
अदरक और लौंग से बनी चाय का सेवन करने से आसानी से तनावमुक्त हो सकते है।

मुंहासे होने पर लौंग के फायदे
Health Benefits of Cloves in Pimples in Hindi

15 से 20 बूंद नारियल के तेल में लौंग के तेल की 2 बूंद मिलाकर मुंहासे पर लगाने से आराम मिलता है।

सिर दर्द और आधासीसी रोग में लौंग के फायदे
Cloves Health Benefits in Relief in Headache and Migraine Pain in Hindi

नारियल, सरसों अथवा तिल के तेल में 2 बूंद लौंग का तेल और समुद्री नमक मिलाकर मस्तक पर लेप करने से सिर दर्द में लाभ मिलता है।
रूई या रुमाल में लौंग के तेल की कुछ बूंदे डालकर मस्तक पर रखने से भी सिर दर्द ठीक हो जाता है।
5 से 6 लौंग को पानी में पीसकर हल्का सा गर्म कर लें और कनपटी पर गाढ़ा लेप करने से माइग्रेन के दर्द में राहत मिलती है।
कभी कभी ठंड की वजह से भी सिर दर्द की समस्या हो सकती है। इस तरह के सिर दर्द में 2-3 लौंग को 50 मिग्रा अफीम के साथ गर्म करके सिर पर लेप करने लाभ मिलता है।

और पढ़ें – आंवला एक, फायदे अनेक

कुक्कर खांसी में लौंग के फायदे
Health Benefits of Cloves for Laungs and Cough Disease in Hindi

4-5 लौंग को आग या तवे पर भूनकर बारीक पीसकर और शहद के साथ सेवन करने से खांसी में लाभ मिलता है।

और पढ़ें – हल्दी के फायदे

श्वास संबंधी रोगों में लौंग के फायदे
Cloves Health Benefits in Respiratory Diseases in Hindi

यदि किसी व्यक्ति को श्वसन प्रणाली में परेशानी है तो गर्म पानी में लौंग का तेल डालकर भाप लेनी चाहिए। इससे नाक पूरी तरह खुल जाती है।

मुंह से आने वाली बदबू को दूर करने के लिए लौंग –
Use of Cloves to Remove Bad Breath from Mouth in Hindi

मुंह में होने सड़न या रात को पानी पिए बिना सोने पर मुख की दुर्गंध जैसी समस्या हो सकती है। मुख की दुर्गंध को दूर करने के लिए लौंग चबाना चाहिए, इससे दुर्गंध खत्म हो जाती है।

पाचन शक्ति को बढ़ाने में मददगार है लौंग का सेवन
Laung Useful to Boost Digestion Power in Hindi

पेट में कीड़े या बैक्टेरिया तथा अनियमित खानपान के कारण पाचन तंत्र का संतुलन खराब हो जाता है। पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए दिन में खाली पेट 1-2 लौंग मुंह में चबाना चाहिए।

और पढ़ें – बहेड़ा के औषधीय गुण

उल्टी आने पर लौंग के फायदे –
Health Benefits of Cloves to Prevent Vomiting of Pregnant Women in Hindi

उल्टी किसी को भी हो सकती है और खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए यह आम बात होती है। इसको रोकने के लिए एक ग्राम लौंग के चूर्ण में शहद और अनार का रस मिलाकर चाटना चाहिए। इसमें शहद के स्थान पर मिश्री की चासनी का भी प्रयोग कर सकते हैं।
लवंग के तेल की कुछ बूंदे रुमाल पर डालकर सूंघने से जी मचलने तथा उल्टी में आराम मिलता है।
गर्भवती महिला के लिए लौंग का काढ़ा उल्टी में बहुत ही लाभकारी होता है।
गुनगुने पानी में लौंग की एक बूंद डालकर धीरे धीरे पीने से भी उल्टी नहीं होती है।

कफ और बलगम नाशक है लौंग का सेवन करना –
Cloves Health Benefits in Cough or Mucus Problem in Hindi

2 ग्राम लौंग के चूर्ण को आधा गिलास पानी में उबाल लें। एक चौथाई भाग शेष रहने पर छान कर सेवन कर लें। कफ में तेजी से लाभ मिलता है।

दस्त होने पर लौंग के फायदे
Benefit of Cloves in Diarrhea in Hindi

यदि किसी को दस्त लगने जैसी समस्या रहती है तो 4 ग्राम हरड़ चूर्ण, एक ग्राम लौंग चूर्ण और सेंधा नमक मिलाकर उसके काढ़े का सेवन करने से आराम मिल जाता है।
एक एक ग्राम जीरा, जायफल और लौंग का बारीक चूर्ण मिश्री या मधु के साथ सेवन करने से दस्त में फायदा होता है।

बुखार में लौंग के फायदे
Health Benefits of Cloves in Fever in Hindi

चिरायता और लौंग को बराबर भाग में पीसकर पिलाने से बुखार ठीक हो जाता है।
छोटी पिप्पली और लौंग का चूर्ण समान मात्रा में लेकर इसका आधा ग्राम भाग शहद के साथ सुबह शाम सेवन करने से बुखार उतर जाता है।

और पढ़ें – गिलोय एक वरदान

यौन उत्तेजना बढ़ाने के लिए लौंग के फायदे
Clove Benefits to Increase Sexual Stamina in Hindi

जायफल और लौंग को घिसकर टूंडी (नाभि) पर लगाने से पुरुष की स्तंभन में शक्ति तीव्रता से वृद्धि होती है।

और पढ़ें – यौन रोग के उपचार

फोड़े फुंसी में लौंग के फायदे
Benefits of Cloves in Boils in Hindi

लौंग को पानी में घिसकर फोड़े फुंसी वाली जगह पर लगाने से जल्द आराम मिलता है।

जोड़ों के दर्द में लौंग के फायदे
Benefits of Cloves in Arthritis Pain in Hindi

लौंग के तेल की कुछ बूंद तथा ऑलिव ऑयल को मिलाकर दर्द वाले स्थान पर लगाने से लाभ मिलता है।

और पढ़ें – नीम के फायदे

By Admin

Leave a Reply