haldi.jpg

Health Benefits of Turmeric Benefits – हल्दी के फायदे

Table of Contents

हल्दी का परिचय
Introduction to Turmeric in Hindi

हल्दी (Haldi ke Fayde in Hindi) हर घर में मसाले ( Turmeric spices)  के रूप में प्रयोग की जाती है, अगर बीमार हो या चोट लग जाए तो औषधि (Health Benefits of Turmeric in Hindi) के रूप में प्रयोग में लाई जाती है, इसके अलावा शादी – विवाह में दूल्हा व दुल्हन के हाथ पैरों में लगाई जाती है, हिन्दू धर्म के अनुसार यदि कोई भी शुभ कार्य होता है तो हल्दी का शुभ कार्य (Turmrtic in Auspicious work) में प्रयोग किया जाता है। हल्दी पाचन को दुरुस्त करती है, खून साफ करती है, शरीर व दिमाग को स्वस्थ रखती है। यह एक जड़ी बूटी के रूप में होती है।

हल्दी के प्रकार
Types of Turmeric in Hindi

हल्दी चार प्रकार की होती है, जिसका प्रयोग आयुर्वेद में चिकित्सा के लिए किया जाता है –
1. सामान्य हल्दी या कुर्कुमा लौंगा हल्दी (Crisp clove turmeric)
2. आमी हल्दी (Flame turmeric)
3. काली हल्दी (Black Turmeric)
4. जंगली हल्दी (Wild turmeric)
इन सभी हल्दी का आयुर्वेद में प्रयोग किया जाता है। हल्दी को हरिद्रा (Haridra), टर्मरिक, Turmeric, वर वर्णिनी आदि नाम से जाना जाता है।  कूर्कुमा लौंगा हल्दी (Kurkurma Launga Haldi) का प्रयोग सामान्यतः घरों में खाने में मसाले के रूप में किया जाता है। यह पीली या लाल रंग की होती है। इसी प्रकार काली हल्दी का प्रयोग ज्योतिष या तंत्र विद्या में किया जाता है।  हल्दी संक्रामक बीमारियों तथा मौसमी बीमारियों से बचाती है। शारीरिक इम्युनिटी या रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है।
Turmeric.jpg
Turmeric Haldi Cup
हल्दी का किस प्रकार प्रयोग किया जाता है, ये इस प्रकार है –

हल्दी के औषधीय प्रयोग
Health Benefits of Turmeric in Hindi

पीलिया रोग में हल्दी के फायदे –
Health Benefits of Turmeric in jaundice disease in Hindi

पीलिया रोग में हल्दी बेहद गुणकारी औषधि है। हल्दी पाउडर को छाछ में मिलाकर रोज 2 बार पीने से 4-5 दिन में पीलिया में आराम मिलता है।

और पढ़े – पीलिया में तुलसी के फायदे 

मधुमेह रोग में हल्दी के फायदे –
Benefits of Turmeric in Diabetes in Hindi

आधा चम्मच हल्दी चूर्ण में थोड़ा सा आंवला रस व शहद मिलाकर खाने से मधुमेह रोग में लाभ मिलता है।

और पढ़ें –ग्वारपाठा ( Aloe Vera ) के फायदे

कुष्ठ रोग या कोढ़ की बीमारी में हल्दी के फायदे –
Turmeric Benefits in Leprosy in Hindi

गौमूत्र में आधा छोटा चम्मच हल्दी मिलाकर पीने से कुष्ठ रोग में लाभ मिलता है। इसके अलावा गौमूत्र में गुड़ व हरिद्रा चूर्ण मिलाकर सेवन करने से भी कुष्ठ रोग ठीक होता है।

और पढ़े – गिलोय के फायदे 

चर्म रोग में हल्दी के फायदे –
Benefits of Turmeric in Skin Disease in Hindi

हल्दी का गौमूत्र के सेवन करने से चर्म रोग में लाभ मिलता है। इसके अलावा हल्दी को मक्खन के साथ लगाने से भी आराम मिलता है।

और पढ़ें –मौसमी खाने के फायदे

पेट दर्द में हल्दी के फायदे –
Benefits of Turmeric in Stomach Ache in Hindi

पेट दर्द होने पर 2 चम्मच हल्दी को एक गिलास पानी में डाल कर घोल ले और इसे गर्म करने के लिए रख दें। इस पानी के अच्छे से उबाल लें और इसमें गुड़ मिलाकर सेवन करें। पेट दर्द जल्द ही ठीक हो जाता है।

और पढ़े –पेट दर्द में बील के फायदे 

पायरिया या मसूड़े दर्द के लिए हल्दी के फायदे –
Benefits of Turmeric for Pyorrhea or Gum Pain in Hindi

पायरिया दांतों में होने वाली बीमारी है। इस बीमारी से राहत पाने के लिए हल्दी के चूर्ण में (Turmeric powder), सरसों का तेल व नमक मिलाकर दांतों एवं मसूड़ों पर अच्छे से मालिश करें। इसके बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें। ऐसा प्रतिदिन करने से मसूड़ों एवं दांतों संबंधी सभी रोग ठीक हो जाते है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में हल्दी –
Immunity Booster Turmeric in Hindi

हल्दी एक बहुत ही गुणकारी औषधि है। यह एक रोग प्रतिरोधक औषधि है। 5-10 ग्राम हल्दी पाउडर को एक गिलास मिश्री या शक्कर मिले गुनगुने दूध में मिलाकर पीने से इम्युनिटी सिस्टम या रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

रक्त शुद्धिकरण में लाभदायक हल्दी – 
Turmeric Beneficial in Blood Purification in Hindi

हल्दी रक्त शुद्धिकरण में भी लाभदायक है। कभी कभी खून की खराबी की वजह से शरीर पर फोड़े- फुंसियां निकाल आती है, शरीर में कमजोरी महसूस होती है या संक्रामक बीमारी जल्दी हमला बोल देती है। इसलिए इन सबसे बचने के रक्त कणों को शुद्ध करने के लिए एक चम्मच हल्दी पाउडर को मिश्री या शक्कर वाले दूध के रोज रात को पीना चाहिए। यह बहुत ही लाभकारी विधि है।

चोट लगने, कटने या जलने पर हल्दी का प्रयोग –
Use of Turmeric on Injury, Cut or Burn in Hindi

शरीर के किसी भी अंग में कटने, जलने या चोट लगने पर हल्दी चूर्ण को लगा देना चाहिए। यह एंटी सेप्टिक होने की वजह से जल्दी ही चोट या घाव को ठीक कर देती है। हल्दी चूर्ण के साथ बोरो प्लस क्रीम का भी प्रयोग कर सकते है। इसके अलावा अगर रोज हल्दी वाला दूध रात को पीने से जल्द घाव भर जाता है।

चेहरे की चमक व निखार बढ़ाने में हल्दी का प्रयोग –
Use of Turmeric to Increase the Radiance and Shine of the Face in Hindi

हल्दी का प्रयोग शादी विवाह में दूल्हा दुल्हन के शरीर पर लगाने में किया जाता है। यह इसलिए किया जाता है कि दूल्हा या दुल्हन और भी अधिक खूबसूरत दिखे। इससे चेहरे पर निखार आता है। हल्दी पाउडर का पेस्ट चेहरे पर लगाने से चेहरा दमकता है। हल्दी लगाकर घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

हल्दी के अन्य प्रयोग
Other Uses of Turmeric

ये हल्दी के कुछ औषधीय गुण हैं। इसके अलावा हल्दी का प्रयोग खाना पकाने, कच्ची हल्दी का सब्जी या अचार बनाने में व पूजा में हल्दी की गांठ का प्रयोग किया जाता है।

और पढ़ें – नींबू के फायदे 

Leave a Reply