anar.jpg

Table of Contents

अनार एक परिचय
Pomegranate – An introduction in Hindi

आप सभी ने एक कहावत तो सुनी ही होगी ” एक अनार सौ बीमार “ यानी यह फल सौ बीमारियों को ठीक करने की ताकत रखता है। किसी भी व्यक्ति को कोई भी बीमारी हो जाये तो सबसे पहले लोग अनार खाने की सलाह देते है। लेकिन अनार फल को छीलने में बहुत मेहनत लगती है इसलिये लोग कभी कभी इसके गुणों को नजर अंदाज करके इस फल से दूरी बना लेते हैं। लेकिन हम सभी जानते है और कई शोधों व अध्ययनों से पता चला है कि (Health Benefits of Pomegranate) अनार स्वास्थ्य के बहुत ही लाभकारी फल है। एक अमरिकी शोध से ज्ञात हुआ है कि अनार का प्रतिदिन सेवन करने से दिल से सम्बंधी बीमारियाँ नहीं होती है। अनार को एक फल के अलावा औषधि के रुप में भी प्रयोग किया जाता है। 

अनार क्या है?
What is pomegranate?

अनार का पेड़ एक झड़ीनुमा पौधा होता है जो लंबाई में लगभग 5 से 8 फीट लंबा होता है। इसमें लाल रंग का पुष्प व कली आती है। कच्चे अनार में दाने सफेद व पकने पर लाल होते है। दाने रस से भरे होते है। इसकी छोटी छोटी पत्तियां होती हैं जो हरे रंग की होती हैं। अनार में आने वाला फल गोलाकार होता है जो एक घड़े के समान प्रतीत होता है। 

अनार खाने से क्या होता है?
What Health Benefits of Pomegranate if you eat it?

अनार एक ऐसा फल है जो खून बढाने व नई रक्त कोशिकाओं का निर्माण करने के लिये सर्वश्रेष्ठ औषधि है। अनार (Health Benefits of Pomegranate) शरीर में खून की मात्रा को तेजी से बढाता है। खून बढाने के अलावा अनार का प्रयोग रुप निखारने मे किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति रोज सुबह एक अनार खाता है वह जल्दी बूढ़ा नहीं होता है। यह चेहरे पर तेज व चमक बनाये रखता है। इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाये रखने के लिये भी अनार का सेवन किया जाता है। अनार के फल का एक महिने तक सेवन करने मात्र से शुक्राणुओं में तीव्र गति से विकास होता है।

अनार में कौन कौनसे पोषक तत्व व विटामिन्स पाए जाते है?
What nutrients and vitamins are found in pomegranate?

यह फल बहुत ही स्वादिष्ट होता है इसलिये इस फल को हर उम्र का व्यक्ति खा सकता है। बच्चे से लेकर बुढे तक कोई भी इस फल का सेवन कर सकता है। अनार मे एंटी ओक्सिडेंट गुण, फाइबर, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन के, विटामिन ई, आइरन, जिंक, पोटेशियम, कैल्सियम, प्रोटीन, ओमेगा 6, फैटी एसिड आदि पोषक तत्व पाये जाते हैं। अनार मे पाये जाने वाले पोषक तत्व मनुष्य की बढती उम्र, सुर्य से आने वाली हानिकारक VU किरणों से हमारी रक्षा करता है। इसके अलावा अनार नई कोशिकाओं का निर्माण, शरीर में नमी बनाये रखने, कील मुहासों, खून की कमी को पूरा करने मे उपयोगी है।

pomegranatejuice.jpg
Pomegranate Juice

अनार एक चमत्कारिक औषधि है। अनार का फल ही नहीं बल्कि इसका पूरा पेड़ औषधिय गुणों से भरा हुआ है। अनार में इतने सारे गुण हैं कि आप इसके फायदे जानकर आश्चर्य मे पड़ जायेंगे। यह औषधीय गुणों का भण्डार है।

अनार कितने प्रकार का होता है?
How Many Types of Pomegranate are there?

1. देशी अनार (Deshi Anar) – देशी अनार स्वाद में कुछ खट्टे मीठे होते हैं।

2. कंधार के अनार (Kandhaar ke anar) – कंधार के अनार मीठे होते हैं।

3. बेदाना अनार (Kabul ka anar) – स्वाद में बेदाना अनार भी मीठे होते हैं, बेदाना अनार में बीज नहीं होता है। इस अनार को काबुल का अनार कहते हैं। काबुल के अनार की कली व छिलका अधिक उपयोगी होती है। 

अनार के अन्य भाषाओं में नाम
Names of pomegranate in other languages

अनार के अन्य कई नामों से जाना जाता है। जिसमें अनार, दाडम, दाडिम, Pomegranate, गुल अनार, गुलनार, दारुण, धारू, जामण, करक आदि नामों से जाना जाता है। 

अनार कहाँ पाया जाता है?
Where is pomegranate grown?

भारत में अनार की खेती मुख्य रूप से ठंडे प्रदेशों जैसे हिमाचल प्रदेश में की जाती है।

और पढ़ें- नारियल का सेवन

अनार कब और कैसे खाना चाहिए?
When and how should pomegranate be eaten?

  • अनार को सुबह खाली पेट नाश्ते से पहले या नाश्ते के साथ खाया जाये तो बहुत लाभकारी होता है। 
  • इसके अलावा अनार खाने का सही समय शाम को 4-5 बजे जब खाली पेट हो तब खाया जाना चाहिए।
  • रात को सोते समय और दिन के खाने के तुरंत बाद अनार से परहेज रखना चाहिए। 
  • खांसी, जुकाम, कब्ज व ठंड वाले व्यक्ति को अनार का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि अनार भी ठंडी तासीर वाला फल होता है। 
  • अनार का ज्यूस (Pomegranate Juice Benefits) या रस पीने के बजाय अनार के दाने खाने चाहिये। हालांकि रस भी फायदेमंद होता है किन्तु अनार के दाने अधिक फायदेमंद होते हैं।
  • एलर्जी, मानसिक रोग वाले व्यक्ति को चिकित्सक की सलाह पर अनार सेवन करने की सलाह दी गयी है।

अनार के औषधीय गुण –
Health Benefits of Pomegranate

पाचन शक्ति बढ़ाने में कारगर है अनार का सेवन –
Pomegranate intake is effective in increasing digestive power in hindi

प्रतिदिन सुबह खाली पेट अनार के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर व एक चुटकी सेंधा नमक डालकर पीने से पाचन तंत्र मजबूत रहता है और भूख बढ़ती है। ऐसा एक सप्ताह करने से पाचन में लाभ मिलता है।

प्यास लगने पर अनार के रस के फायदे –
Health Benefits of Pomegranate Thirst in hindi

अनारदाना, नागकेशर व जीरा समान मात्रा में बारीक पीसकर चूर्ण बना लें। इस मिश्रण का बारीक पिसी हुई मिश्री व शहद के साथ मिलाकर चाटने से बार बार प्यास नहीं लगती है। 

और पढ़ें – अनानास के फायदे

पीलिया व एनीमिया रोग में अनार के लाभ –
Health Benefits of Pomegranate in jaundice and anemia disease in hindi

  • अनार के पत्ते 5 ग्राम की मात्रा में लेकर छाया में सुखा लें। इन सूखे हुए पत्तों को पीसकर महीन चूर्ण बना लें। सुबह इस चूर्ण का गाय के दूध से बनी छाछ के साथ सेवन करें। इसी तरह इस शाम को इस छाछ को पनीर के साथ सेवन करना चाहिए। इससे कमला रोग या पीलिया रोग व एनीमिया में आराम मिलता है।
  • एक किलोग्राम शक्कर या खांड (चीनी) में 350 से 400 ग्राम अनार का रस मिलाकर इसकी चासनी बना लें।  इस चाशनी का दिन में 3-4 बार सेवन करने से पीलिया व एनीमिया रोग में आराम मिलता है।

हृदय रोग में अनार के फायदे –
Health Benefits of Pomegranate in Heart Disease in hindi

  • प्रतिदिन अनार के रस का सेवन करने से हृदय संबंधी विकार दूर होते हैं।
  • हृदय रोगी को अनार के पत्तों को एक गिलास पानी में पीसकर छान लें। इस रस का सुबह शाम सेवन करने से हृदय संबंधी रोग दूर होते हैं।

टी. बी. रोग में अनार के फ़ायदे –
Health Benefits of Pomegranate in T.B. in hindi

250 ग्राम अनार के रस में 50 ग्राम की मात्रा में पीपल, दालचीनी, सफेद जीरा व सौंठ का चूर्ण मिला लें। साथ ही थोड़ी सी केशर व 250 ग्राम देशी गुड़ डालकर धीमी आंच पर काढ़ा बनाने के लिए रख दें। गाढ़ा होने पर इस काढ़े में इलायची चूर्ण बारीक पीसकर डाल दें। इस काढ़े को ठंडा होने पर छोटी छोटी गोलियां बना लें। सुबह शाम एक एक गोली बकरी के दूध के साथ सेवन करने से टी. बी. रोग में लाभ मिलता है। 

खूनी उल्टी व खूनी बवासीर में अनार के फ़ायदे –
Health Benefits of Pomegranate in vomiting and bloody piles in hindi

  • अनार के पत्तों का रस दिन में 2 बार सेवन करने से उल्टी व खूनी बवासीर में लाभ मिलता है।
  • अनार की जड़ की छाल के काढ़े में सौंठ का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से खूनी बवासीर में लाभ मिलता है।
  • 200 ग्राम अनार के ताजा पत्तों को पानी में उबाल लें। जब पानी आधा रह जाए तो इस पानी से गुदा व मस्सों को दिन में 2-3 बार धोएं। इससे बवासीर व मस्सों के रोग में आराम मिलता है।
  • 100 ग्राम कुटज को अच्छे से कूट कर 800 मि.ली. पानी में उबाल लें। जब पानी की मात्रा 200 मि.ली. रह जाए तब इस काढ़े को उतारकर छान लें। अब इसमें 200 मि.ली. अनार का रस मिलाकर गाढ़ा होने तक धीमी आंच पर पकने दें। इस काढ़े का 25 मि.ली. छाछ के साथ सेवन करने से खूनी बवासीर व पेचिस में लाभ मिलता है। 
  • सौंठ, चंदन व अनार के फल की छाल को सुखाकर चूर्ण बना लें। इन सभी की समान मात्रा लेकर काढ़ा बनाए और इस काढ़े का गाय के घी के साथ सेवन करने से खूनी बवासीर में लाभ मिलता है। 
  • अनार की छाल का काढ़ा बनाकर पीने से बवासीर में आराम मिलता है।

और पढ़ें – सेब खाने के फायदे 

फेफड़ों को स्वस्थ रखता है अनार –
Pomegranate keeps lungs healthy in hindi

अनार के पत्तों का काढ़ा दिन में दो से तीन बार पीने से फेफड़े के रोग संबंधी विकारों में आराम मिलता है।

मूत्र रोग में अनार के फ़ायदे –
Benefits of pomegranate in urinary diseasein hindi

  • प्रातः काल खाली पेट अनार के रस का सेवन करने से मूत्र रोग में लाभ मिलता है।
  • अनार के रस में छोटी इलायची और सौंठ का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से मूत्र रोग में आराम मिलता है।
  • हरे गोखरू व अनार के पत्तों को आधा गिलास पानी में पीसकर छान लें। इस पेय के सेवन से मूत्र रोग में फायदा मिलता है।

टायफायड में अनार के लाभ –
Benefits of Pomegranate in Typhoid in hindi

अनार के पत्तों के काढ़े में सेंधा नमक डालकर पीने टायफायड ठीक हो जाता है। 

और पढ़ें – चुकंदर के फायदे

ल्यूकोरिया में अनार के फ़ायदे –
Benefits of Pomegranate in Leucorrhea in hindi

अनार के फल के रस के काढ़े में हल्दी पाउडर मिलाकर योनि धोने से लयूकोरिया रोग ठीक होता है। 

गर्भपात रोकने व गर्भधारण करने में अनार के प्रयोग –
Use of Pomegranate to prevent miscarriage in hindi

  • गर्भपात रोकने के लिए अनार का सेवन बहुत ही लाभकारी है। गर्भधारण के पांचवें महीने में अनार के पत्ते का चूर्ण, चंदन के चूर्ण में दही व शहद मिलाकर सेवन करने लाभ मिलता है।
  • अनार के पत्तों को पीसकर उसका पेस्ट गर्भ के निचले भाग पर लगाने से लाभ होता है।

और पढ़ें – अश्वगंधा के फायदे

खांसी में उपयोगी है अनार –
Pomegranate is useful in cough in hindi

100 ग्राम सूखा अनारदाना, काली मिर्च, दालचीनी, सौंठ व पीपल लें। इसके साथ इसमें 50 ग्राम इलायची व 50 ग्राम तेजपत्ता मिलाकर इसका चूर्ण बना लें। इस मिश्रण के समान मात्रा में मिश्री को बारीक पीसकर मिला लें। बने हुए मिश्रण का प्रतिदिन एक ग्राम मात्रा में लेकर शहद के साथ सेवन करने से खांसी में लाभ मिलता है। इस विधि का प्रयोग करने से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है।

कान से संबंधी रोगों में अनार के फ़ायदे –
Benefits of pomegranate in diseases related to ear in hindi

50 ग्राम तिल के तेल में 50 ग्राम अनार के ताजे पत्तों का रस व 200 मि.ली. गौमूत्र को धीमी आंच पर तब तक पकाएं, जब तक तेल की मात्रा कम ना रह जाए। इस बचे हुए तेल को छान कर रख लें। सुबह शाम थोड़ा तेल गरम करके कान में डालने से कान से संबंधी विकार, बहरापन आदि ठीक हो जाते हैं।

और पढ़ें – लिसोड़ा के फायदे

सुडौल स्तनों के लिए अनार का प्रयोग –
Use of pomegranate for curvy breasts in hindi

  • अनार के पत्तों का रस तिल या सरसों के तेल में अच्छे से पकाएं। जब तेल मात्र शेष रह जाए तब इसे छान कर रख लें और इससे प्रतिदिन मालिश करने से स्तनों में कसावट आती है तथा सुडौल बनते हैं। इसके अलावा यह चेहरे की झुर्रियां भी मिटाता है।
  • अनार के पत्ते, छिलका, छाल, कली, पुष्प व जड़ को बराबर मात्रा में लेकर दरदरा सा पीस लें। 100 ग्राम मिश्रण को  200 ग्राम सिरका व 400 ग्राम गुलाब जल में 4 दिन के लिए भिगो कर रख दें। इसके बाद चौथे दिन सरसों के तेल में धीमी आंच में पकने दें। जब तेल शेष रह जाए तब इसे छान कर बोतल में बंद कर रख दें और इस तेल की प्रतिदिन सुबह शाम मालिश करने से स्तन में तनाव आता है और सुडौल बनते है।

गंजापन रोकने के लिए व बाल संबंधी रोगों में अनार के फायदे –
Benefits of pomegranate in hair related diseases and to prevent baldness in hindi

अनार के पत्तों का रस व अनार के पत्तों के पेस्ट को सरसों के तेल में पका कर सिर पर लगाने से बाल झड़ना बंद हो जाता है और गंजेपन की समस्या दूर होती है।

और पढ़ें – आंवला के फायदे

अनिद्रा के लिए फायदेमंद है अनार –
Pomegranate is beneficial for insomnia in hindi

25 ग्राम अनार के कोमल ताजे पत्तों को 500 मिली पानी में उबाल लें। जब पानी एक चौथाई रह जाए  तो इसमें गर्म मिश्री मिला दूध मिलाकर पीने से अनिद्रा में राहत मिलती है। 

और पढ़ें – पुदीना के औषधीय गुण 

मुंह के छालों में अनार के फ़ायदे –
Benefits of pomegranate in mouth ulcers in hindi

  • मुंह के छालों को ठीक करने के लिए अनार के पत्तों को पानी में उबालें। जब एक चौथाई पानी शेष रह जाए तो इस पानी से कुल्ला करें। इससे मुंह के छालों में लाभ मिलता है।
  • अनार की छाल को सुखाकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को छालों पर मलने से छालों में आराम मिलता है।

दस्त में अनार के लाभ –
Benefits of Pomegranate in diarrhea in hindi

  • अनार के फल की छाल का चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को पानी के साथ सेवन करने से दस्त में आराम मिलता है।
  • दस्त से राहत पाने के लिए अनार के फल की छाल के चूर्ण में समान मात्रा में जायफल का चूर्ण मिला लें। इस मिश्रण थोड़ी सी केशर मिला लें। इस मिश्रण को बारीक पीसकर शहद के साथ सेवन करने से दस्त में आराम मिलता है। 

नाखूनों के दर्द में राहत दिलाए अनार –
Pomegranate provides relief in the pain of the nails in hindi

हरड़, धमासा व अनार के फूल को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। इस पेस्ट को नाखून पर लगाने से लाभ मिलता है। 

नाखूनों में होने वाली सूजन, दर्द व अन्य विकारों में लाभ मिलता है। 

और पढ़ें – गाजर खाने के फायदे

दांतों व मसूड़ों को रखे स्वस्थ –
Keep teeth and gums healthy by pomegranate in hindi

  • दांतों व मसूड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए अनार तथा गुलाब के फूल को पीसकर दंत मंजन करने से लाभ मिलता है।
  • यदि दांतों से खून आता है तो अनार की कली या अनार के फल की छाल को सुखाकर बारीक पीसकर दंत मंजन करने से दांतों व मसूड़ों में खून आना बंद हो जाता है।
  • अनार के पत्तों को छाया में सुखाकर बारीक चूर्ण बना लें।
  • इस चूर्ण से मंजन करने से दांत हिलने की समस्या दूर होती है।

  और पढ़ें – पत्ता गोभी के फायदे 

By Admin

Leave a Reply