Health Benefits of Pineapple | अनानास के फायदे

Table of Contents

अनानास का परिचय
Introduction to Pineapple 

अनानास एक बहुत ही स्वादिष्ट फल है। लेकिन आम तौर पर देखा जाता है कि इसको काटने व छीलने में बहुत मेहनत होने की वजह से अनानास फल को कम खरीदते हैं। इस फल को खाना सब पसंद करते है लेकिन इसके पीछे मेहनत की वजह से नहीं खरीदते हैं। अनानास (Health Benefits of Pineapple in Hindi) का फल स्वाद में खट्टा मीठा होता है, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ही गुणकारी है। अनानास का प्रयोग खाने, ज्यूस बनाने, रायता व औषधि प्रयोगों में किया जाता है।

अनानास खाने के औषधिय गुण
What Health Benefits of Pineapple if you eat it.

अगर हड्डियों की मजबूती की बात करें तो यह फल सर्वश्रेष्ठ फल है। इस फल में इतने औषधीय गुण (Health Benefits of Pineapple in Hindi) हैं कि जानकर हैरान रह जायेंगे। आयुर्वेद के दृष्टिकोण से देखा जाए तो यह फल बहुत ही गुणकारी व फायदेमंद है। पाइनएप्पल फल में एंटी इंफ्लेमेन्ट्री गुण होते हैं जिस कारण से यह फल आर्थराइटिस बीमारी में लाभदायक होता है। गठिया रोग या जोड़ों के दर्द में पाइनएपल बहुत ही लाभकारी होता है। इसका सेवन गठिया रोग से होने वाली सूजन में भी लाभ पहुंचाता है।

यह फल पाचन शक्ति को बढ़ाता है तथा पाचन तंत्र को मजबूत करता है। इसके अलावा इम्यूनिटी बढ़ाने में, उच्च रक्तचाप को कम करने, वजन घटाने, हड्डियों को मजबूती प्रदान करने, आंखों की ज्योति, अस्थमा के खतरे को कम करने, गठिया या जोड़ों के दर्द आदि में रोगों में लाभकारी है।

अनानास में पाए जाने वाले खनिज, पोषक तत्व और विटामिन्स
Minerals, Nutrients and Vitamins Found in Pineapple

अनानास में एंटी ऑक्सिडेंट, एंटी इन्फ्लेमेंट्री, पोटेशियम, कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी, कैरोटिन,फाइबर, फास्फोरस, मैंगनीज आदि पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसके अलावा पाइनएप्पल में कैलोरी मी मात्रा कम होती है।

अनानास कहां उगता है?
Where does pineapple grow?

अनानास की खेती समुद्री तटों व अधिक पानी की मात्रा वाले स्थानों पर की जाती है। यह एक ब्राजील का फल है। भारत में अनानास की खेती केरल के समुद्री तटों, अंडमान निकोबार द्वीपसमूह, मेघालय, असम, उड़ीसा, बंगाल, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक आदि राज्यों में प्रचुर मात्रा में की जाती है।

पाइनएप्पल खाने के औषधीय प्रयोग 
Amazing Health Benefits of Pineapple in hindi 

मूत्र रोग में अनानास के फायदे –
Pineapple benefits in Urinary Disease in hindi

  • यदि किसी व्यक्ति को मूत्र संबंधी किसी भी प्रकार का विकार है तो पाइनएप्पल की मदद से मूत्र रोग को ठीक किया जा सकता है। मूत्र रोग से राहत पाने के लिए अनानास के रस में गुड़ डालकर कर सेवन करना चाहिए। इससे मूत्र विकार ठीक होते हैं।
  • कम पेशाब होने की समस्या में अनानास के रस का कम से कम 10 से 15 दिन तक सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से अल्प मूत्र रोग जैसी समस्या समाप्त होती है। इस विधि के दौरान जहां तक संभव हो दूध का ही सेवन करना चाहिए।
  • यदि बार-बार पेशाब होने की समस्या हो तो अनानास और खजूर को बराबर मात्रा में मिलाकर घी व शहद के साथ मिलाकर डिब्बे में बंद कर दें। इस मिश्रण के 10 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से बार-बार मुत्र आने की समस्या ठीक होती है।
  • बार-बार मूत्र आने की समस्या के लिए अनानास के रस में दिल आंवला बहेड़ा हरड़ गोखरू एवं जामुन के बीज 10-10 ग्राम मिला दें। इस मिश्रण को सुखाकर बारीक पीसकर कर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण का सुबह शाम एक चम्मच की मात्रा में ठंडे पानी के साथ सेवन करने से बार-बार मूत्र आने संबंधी विकार दूर होते हैं।

उदर रोग में अनानास के सेवन के फायदे – 
Benefits of pineapple in stomach disease in hindi

  • अनानास के कच्चे फल के रस के सेवन से पेट के कीड़े मर जाते हैं। पेट संबंधी विकार दूर हो जाते हैं।
  • अनानास के पत्ता के साथ शहद मिलाकर सेवन करने से पेट के कीड़े खत्म हो जाते है।
  • पके हुए अनानास के रस में वायविडिंग का चूर्ण, अजवायन व छुहारा (खजूर) समान मात्रा में मिलाकर शहद के साथ बच्चों को चाटने से पेट के कीड़े खत्म हो जाते है।
  • यदि पेट में पानी भर जाने की समस्या हो गई हो तो अनानास के पत्तों के काढ़े में बहेड़ा व छोटी हरड़ चूर्ण मिलाकर सेवन करना चाहिए। जल्दी लाभ मिलता है।

मासिक धर्म में अनानास के लाभ –
Benefits of Pineapple in Menstruation in hindi

  • पीपल की छाल के चूर्ण को अनानास के कच्चे फल के रस में मिला लें। इस मिश्रण में थोड़ा सा गुड़ मिलाकर सेवन करने से मासिक धर्म विकार दूर होते हैं।
  • अनानास के पत्तों के रस का काढ़ा बनाकर पीने से भी अनियमित मासिक धर्म ठीक होता है। सेवन करने से पहले चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

कुष्ठ रोग में पाइनएप्पल के लाभ – 
Benefits of Pineapple in Leprosy in hindi

  • कुष्ठ रोग में अनानास के ताजे रस का लेप करने से लाभ मिलता है। यह त्वचा संबंधी रोगों में भी लाभ पहुंचाता है।
  • शरीर के किसी भी भाग में यदि सूजन जैसी समस्या है तो पाइनएप्पल के रस का लेप करने व अनानास के रस का सेवन करने से लाभ मिलता है।

फेफड़ों के लिए गुणकारी अनानास –
Effective benefits of pineapple for lungs in hindi

अनानास के रस का नियमित रूप से 15 से 20 दिन तक सेवन करने से फेफड़े से सम्बन्धी सभी विकार दूर हो जाते है। इसके प्रयोग के समय केवल दूध का सेवन करना चाहिए।

हृदय रोग में अनानास के फायदे – 
Pineapple benefits in heart disease in hindi

  • अनानास के रस में दुगुनी मात्रा में शक्कर डालकर पीने से हृदय सम्बन्धी रोग व पित्त रोग समाप्त होता है।
  • अनानास के मुरब्बा का सेवन करने से भी हृदय रोग ठीक होता है। अनानास का मुरब्बा बनाने के लिए अनानास के टुकड़ों को एक दिन चुने के पानी में भिगोकर रख दें और सूखने पर चासनी में डाल दें। इसका प्रतिदिन सेवन करने से हृदय ठीक रहता है।

 

पीलिया रोग में अनानास के लाभ –
Benefits of pineapple in jaundice disease in hindi

अनानास फल के पीलिया या कमला रोग में भी लाभ होते हैं। पीलिया रोग में लाभ प्राप्त करने के लिए अनानास के रस में हल्दी चूर्ण व मिश्री मिलाकर सेवन करना चाहिए।

श्वास संबंधी रोगों में अनानास के फायदे –
Benefits of pineapple in respiratory diseases in hindi

  • श्वास रोग में रोगी को अनानास के रस में बहेड़ा, मिश्री व मुलेठी का चूर्ण मिलाकर सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से सांस रोग में आराम मिलता है।
  • अनानास के रस में पीपली की जड़, बहेड़ा व सौंठ का चूर्ण मिलाएं। इसमें भुने हुए सुहागा व शहद मिलाकर सेवन करें।

अपच, आफरा व पाचन में अनानास के फायदे –
Benefits of pineapple in indigestion, aphasia and digestion in hindi

  • अनानास के रस के सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है।
  • अनानास के पके हुए फल के टुकड़े करके काली मिर्च व सेंधा नमक के साथ सेवन करने से अपच जैसी समस्या ठीक होती है व पाचन शक्ति बढ़ती है।
  • खाना खाने के बाद यदि आफरा या पेट फूलने जैसी समस्या होती हो तो अनानास के रस का सेवन करने से ठीक हो जाती है।

 

हड्डियों को मजबूत बनाए अनानास –

Pineapple Benefits for strong bones in hindi

अनानास का फल मुख्य रूप से हड्डियों की मजबूती पर जोर देता है। इससे शरीर की हड्डियां व मांस पेशियां मजबूत होती हैं। अनानास के रस का सेवन करने से हड्डियां मजबूत होती हैं। रस के अलावा अनानास के फल को काटकर भी सेवन कर सकते हैं।

Leave a Reply